Wednesday, September 1, 2010

पूरी औरत किसी-किसी को ही मिलती है...


अमृता जी के जन्मदिन पर इमरान खान जी की तरफ से इमरोज़ के संग की गयी एक ख़ास मुलाकात .जो उन्होंने  कल हमें अमृता जी के जन्मदिन पर इस ब्लॉग पर पोस्ट करने के लिए भेजी .शुक्रिया इमरान जी ....
 
 
आम लोगों के लिए अमृता प्रीतम इस दुनिया में नहीं हैं, लेकिन वे आज भी जिंदा हैं। हंसती-बोलती। उन्हें देखने जाना होगा साऊथ दिल्ली के हौज खास इलाके में। जहां मशहूर आर्टिस्ट इमरोज अमृता को जी रहे हैं। शायराना लफ्जों में कहें तो एक जिस्म में दो शख्स जिंदा हैं। इमरोज की जुबान से बोलतीं अमृता का अहसास उस घर की दरो-दीवार में यूं समाया हैं जैसे अमृता-इमरोज के भीतर मुहब्बत का समुन्दर।  इमरान खान ने की इमरोज से खास मुलाकात, जिसमें इन दो शख्ससीयतों के कई पहलु दिखाई दिये। पेश हैं इस मुलाकात के चंद अहम हिस्सों के लफ्ज।
आप कलाकार हैं, पर आज तक आपने अपनी कोई पेंटिंग बेची नहीं और ना ही कोई एग्जीबिशन लगाई, ऐसा क्यों?
मैं आर्टिस्ट हूं यह बात मुझे पता है। मैं ये लोगों को क्यों बताऊं कि मैं आर्टिस्ट हूं। जिसे मेरी पेंटिंग पसंद होगी वो खुद आकर देख लेगा। ना मुझे शौक है कि लोग मेरे बारे में जानें और ना ही अमृता को। और हां अगर हम एग्जीबिशन लगाएं तो ऐसे लोग आएंगे जो हमें जानते ही नहीं, इसका क्या मतलब? ये सब फिजूल है। मुझे पता होना चाहिए कि मैं आर्टिस्ट हूं और किसी को पता नहीं तो भी कोई बात नहीं। मैं और अमृता दोनों इसी तरह ही रहे हैं। हर लेखक की किताब पर पहले 3-4 पेज की भूमिका होती है, जो दूसरे लोगों ने लिखी होती है। जो सीधा लेखक को ओब्लाइज करती हैं। अमृता की लगभग 75 किताबें छपी हैं पर उसकी एक भी किताब पर मैंने ऐसा कुछ नहीं देखा। हम सिर्फ अपने लिए जिए हैं। मैं अमृता को जानता हूं, अमृता मुझे जानती है। दुनिया में एक ही आदमी काफी है आपको जानने के लिए। सब समाज का रोना रोते हैं, आखिर समाज है कहां? आम आदमियों को ही आपने समाज का नाम दे रखा है। मैं ही अमृता का समाज हूं और वो मेरी समाज है। बाकी किसी से हमें कुछ नहीं लेना।
आपका रहन-सहन कैसा था?
हम सादे जीवन में ही यकीन रखते हैं। मैं और अमृता किसी को खाने पर नहीं बुलाते। ये तो हमारी मर्जी है कि हमें किसी को बुलाना है या नहीं। हम दोनों एक ही सब्जी से खाना खाते हैं। अगर किसी को बुलाते हैं तो उसके लिए सब्जी भी बनानी पड़ेगी। क्या जरूरत है ये सब करने की। लोग नौकर क्यों रखते हैं, क्योंकि वह उन्हें आराम देते हैं। वह उनका ध्यान रखते हैं। मैं अपने कमरे में पेंटिंग बना रहा होता हूं। अमृता अपने कमरे में लिख रही होती है तो हमें नौकर का ध्यान रखना पड़ता, कि वो क्या कर रहा हैं, इसलिए हम नौकर नहीं रखते। अगर औरत घर में रहती है तो वो खाना क्यों नहीं बनाती। अमृता इनती बड़ी लेखिका है, आखिरी समय तक उसने खुद खाना बनाया है। मैं उसके साथ रसोई में काम करता हूं, दोनों मिल के सारा काम करते हैं। जो काम दो घंटों में होना था, वो एक घंटे में हो जाता है। हमें नहीं लगता लोगों को घर बुलाना जरूरी है। हां अगर हम खाना खा रहे हैं और कोई आ जाए तो वह भी हमारे साथ खा ले, जो हम खा रहे हैं।
आप खुदा में यकीन रखते हैं?लोग मंदिर, मस्जिद या गुरद्वारे क्यों जाते हैं? क्योंकि उन्होंने भगवान से कुछ मांगना होता है। क्या भगवान किसी का नौकर है? वह किस-किस के काम करता रहेगा। आप भगवान के पास सिर्फ मांगने जाते हैं। हमें किसी चीज की जरूरत नहीं, हम नहीं जाते। आप ऐसा क्यों कहते हैं कि अगर हमारा ये काम हो जाए तो हम हवन या और कुछ करवाएंगे, आप सीधा-सीधा भगवान को रिश्वत दे रहे हैं। अरे भगवान को तो छोड़ दीजिए। कोई कहता है भगवान मेरी शादी करवा दो। कोई कहता है मुझे पास करवा दो। और तो और चोर कहता है कि मेरी चोरी पर पर्दा डाले रखना। वो ये नहीं कहता कि मेरी चोरी की आदत छुड़वा दो। अगर आप सोचते हैं कि खुदा है तो आप सब चीजें उस पर छोड़ देते हैं। अगर सोचते हैं कि नहीं है तो आप दो तरीकों से सोचते हैं। लोग कहते हैं कि सब कुछ भगवान की मर्जी से ही होता है। तो अगर किसी का मर्डर होता है, तो फिर वो भी भगवान की मर्जी से हुआ होगा। तो उसको क्यों पकड़ते हो? भगवान को पकड़ो जाकर। मर्डर पर आकर बात बदल जाती है।
आप और अमृता मुशायरों में नहीं जाते, क्यों?मुशायरा और मूड का होता है, हम उसमें फिट नहीं बैठते। मैं कभी मुशायरे में नहीं जाता, शायद अमृता एक बार गई है। मुशायरा सब शायरों को पसंद भी नहीं। शायर पर्दे के पीछे शराब पी रहे होते हैं और फिर शायरी शुरू कर देते हैं। पहले तो छोटे-मोटे शायरों को पढ़वाया जाता है, बड़े शायर तो आखिर में आते हैं, ताकि भीड़ बनी रहे। ऐसा करने की क्या जरूरत है, क्यों न उन अच्छे शायरों की ही ज्यादा नज्में सुन ली जाएं।
आपने अमृता जी के साथ अपना पहला जन्मदिन मनाया था, कैसा महसूस हुआ?
अच्छा लगा। वो तो बाइचांस ही मना लिया। उसके और मेरे घर में सिर्फ एक सड़क का फासला था। मैं उससे मिलने जाता रहता था। उस दिन हम बैठे बातें कर रहे थे, तो मैंने उसे बताया कि आज के दिन मैं पैदा भी हुआ था। वो उठ कर बाहर गई और फिर आकर बैठ गई। हमारे गांव में जन्मदिन मनाने का रिवाज नहीं है, अरे पैदा हो गए तो हो गए। ये रिवाज तो अंग्रेजों से आया है। थोड़ी देर के बाद उसका नौकर केक लेकर आया, उसने केक काटा थोड़ा मुझे दिया और थोड़ा खुद खाया। ना उसने मुझे हैप्पी बर्थडे कहा, ना मैंने उसे थैंक्यू। बस दोनों एक-दूसरे को देखते और मुस्कुराते रहे।
आप लगभग 40 सालों तक एक साथ रहे, फिर भी कभी प्यार का इजहार नहीं किया?
इजहार करने की जरूरत क्या है। अगर कोई बिना कुछ बोले ही सब कुछ बोल दे तो क्या जरूरत है। 40 सालों में हमने एक-दूसरे को आई लव यू नहीं कहा। प्यार है तो है, बताने की क्या जरूरत है। अगर मुझे कोई खूबसूरत लगता है तो लगता है। उसको खुद-ब-खुद अहसास हो जाएगा। अगर हम किसी को कहते हैं कि तुम मुझे खूबसूरत लगती हो, इसका मतलब कि हम कहना चाहते हैं कि मैं तुम्हें प्यार करता हूं और तुम भी मुझे प्यार करो। प्यार को इजहार की जरूरत नहीं, इजहार तो कोशिश है प्यार बनाने की।
अमृता जी खाना बनाना कब शुरू किया था?
अमृता ने पहले कभी खाना नहीं बनाया था पर जब हम इक्ट्ठे रहते थे तो उसने खाना बनाना शुरू किया और आखिर तक बनाती रही। उसने मुझे बताया नहीं कि मैं खाना बनाऊंगी, बस बनाना शुरू कर दिया, जब आपकी आखें सब कुछ बोल रही हों तो लबों से बोलने की जरूरत नहीं होती। मुझे भी उसके साथ काम करना अच्छा लगता है। आम घरों में क्या होता है आदमी अखबार पढ़ रहा होता है और औरत अकेले खाना बनाती है। वो सिर्फ ऑर्डर करता है, कभी चाय लाओ तो कभी पानी। मदद करने किचन में नहीं जाता। वो तो सिर्फ हुक्म देता रहता है। औरत जिस्म से भी बहुत आगे है और ऐसे लोगों को पूरी औरत नहीं मिलती। पूरी औरत उसी को मिलती है जिसे वो चाहती है।
उनका कमरा घर की शुरुआत में और आपका आखिर में, ऐसा क्यों?
मैं एक आर्टिस्ट हूं और वो लेखिका। पता नहीं कब वो लिखना शुरू कर दे और मैं पेंटिंग करना। इतना बड़ा घर होता है। फिर भी पति-पत्नी एक बिस्तर पर क्यों सोते हैं? क्योंकि उनका मकसद कुछ और होता है। हमारा ऐसा कुछ मकसद नहीं, इसलिए हम अलग सोते हैं। सोते वक्त अगर मैं हिलता तो उसे परेशानी होती और अगर वो हिलती तो मुझे। हम एक-दूसरे को कोई परेशानी नहीं देना चाहते। आज शादियां सिर्फ औरत का जिस्म पाने के लिए होती हैं। मर्द के लिए औरत सिर्फ सर्विंग वूमैन है, क्योंकि वह नौकर से सस्ती है। ऐसे लोगों को औरत का प्यार कभी नहीं मिलता। आम आदमी को औरत सिर्फ जिस्म तक ही मिलती है। प्यार तो किसी किसी को ही मिलता है।
अब आपका रहन-सहन कैसा है?
अब मैं घर में ही रहता हूं, क्या जरूरत है बाहर जाने की। कविताएं लिखता हूं, पेंटिंग करता हूं, खुश हूं अपनी जिंदगी से। हां कभी-कभी सब्जी लेने जरूर चला जाता हूं।
आज कल के लोगों के बारे में क्या कहेंगे?आज कल कोई जिंदा नहीं है। सब डेड हो चुके हैं। जो सॉरी नहीं कहता वो मर चुका है क्योंकि जिंदा आदमी कभी न कभी एक बार तो अपनी गलती का अहसास करता ही है। गुजरात दंगों में एक हजार से ज्यादा मुसलमान मारे गये पर आज तक गुजरात के किसी एक भी व्यक्ति ने गलती नहीं मानी, क्यों? क्योंकि वो मर चुके हैं। आज कोई भी मजहब इंसान नहीं बना रहा, सब अपने इस्तेमाल के लिए आदमी बना रहे हैं। कोई ये नहीं कह सकता है हम दूसरों से अच्छे हैं क्योंकि सब वहशी हो चुके हैं।
 
  

15 comments:

संजय बेंगाणी said...

एक मुर्दा आदमी ने यह पोस्ट पढ़ ली है. :)


मैंने "हाफ-टिकट" पढ़ी है और सितारों से आगे भी. अमृताजी से इतना ही परिचय है.

अमृताजी भारत के अच्छे लेखकों में शामिल है मगर इमरान पेंटर है यह नहीं पता था या फिर याद नहीं था.

साक्षात्कार के बहाने बहुत कुछ जाना, धन्यवाद आपका. सुन्दर प्रयास.

और गुजरात को याद रखने के लिए शुक्रिया इमरान.

DEEPAK BABA said...

अमृता जी नाम जेहन में आते है .. बस एक चहरा ध्यान में आ जाता है :

अज पूंछा वारिश शाह नू........

वन्दना said...

इमरोज़ जी का परिचय और प्यार के प्रति उनका नज़रिया ………………यही तो उनके व्यक्तित्व को सम्पूर्ण बनाता है………………शुक्रिया।

अनिल कान्त : said...

अच्छा लगा ये पोस्ट पढ़कर

पद्म सिंह said...

एकमात्र जिंदा इंसान का साक्षात्कार... और जिंदा इस लिए है कि केवल उसे ही गुजरात के मुसलामानों के मरने का दुःख है ...

पंकज बेंगाणी said...

प्रभु. इंसान हैं कि क्या हैं? इतना घोर निराशावादी आदमी पहली बार जाना. इनके लिए बस ये हीं महान हैं, हम तो पैदा ही क्यों हो गए पता नहीं चल रहा. :)

क्षमा करें इमरोज़ साहब मुझे, परंतु ऐसे तो कोई कैसे जी सकता है.

Vivek Rastogi said...

ओह अमृताजी के बारे मॆं बहुत सारी नई बातों से रुबरु हुए..

sada said...

बेहतरीन प्रस्‍तुति ।

शरद कोकास said...

अद्भुत साक्षात्कार है यह .. और सारे जवाब भी सबसे अलग ।

हरकीरत ' हीर' said...

इमरोज़ जी की ये सारी बातें पहले ही जान चुकी थी ....अद्भुत इंसान हैं ये ....tabhi to kahti हूँ न इनके जैसा कोई है न हो सकता है .....रंजना जी हम खुशनसीब हैं कि हमने ऐसे इंसान को देखा है ,सुना है ....समझा है ....सच ऐसे रिश्तों को निभा पाना बहुत कठिन होता है ...जहां न डोर है न धागा ....इमरोज़ जी ने न सिर्फ निभाया बल्कि जिया भी ....नमन है इन्हें .....!!

kumar zahid said...

आप लोग सचमुच खुशनसीब है जो ऐसे फरिश्तों के करीब हैं।

Pummy said...

आज पहली बार अमृता-इमरोज के बारे मे इमरोज जी की ज़बानी पढ़ा...अभी तक थोड़ा सा सुना ही था...कितना गहरा रिश्ता था....आज जाना...काश....

Amit Varma said...

बाकी सब तो बहोत अच्छा.. मगर सिर्फ गुजरात के मुसलमानों की ही बात करना दिखाता है के उनको बस गुजरात की ही चोट है.. वो अकेले जिंदा हैं न .. शायद इस लिए..

Broken Crockery said...

http://www.flipkart.com/amrita-imroz-love-story/p/itmczyrpdyvbgkuy?pid=9780143100447&otracker=from-search&srno=t_2&query=amrita+imroz&ref=04e1d47b-2414-4f8b-8377-cf4c6c682387

Raj Sabharwal said...
This comment has been removed by the author.