Saturday, April 10, 2010

Youtube par Amrita..

आज अचानक, youtube.com पर अमृता जी की कवितायें उनकी ही आवाज़ में सुनने को मिली। यहाँ link दे रही हूँ... अगर आप का भी सुनने को मन करे :

अज्ज आखां वारिस शाह नूं …




हिज्र दी इस रात विच




मैं चुप, शांत, अडोल खड़ी सां…



main ik giraje di mombatti




और भी बहुत सी ... शुक्रिया youtube!

5 comments:

डॉ. मनोज मिश्र said...

सशक्त आवाज में बेजोड़ रचना.बढ़िया प्रस्तुति.

dimple said...

thanx 4 sharing..

आदित्य आफ़ताब "इश्क़" said...

जी बहुत शुक्रिया ...................सादर चरण स्पर्श !

झारखंडी आदमी said...

rooh ko choo gai ik sasakt awwaz

E-Guru Rajeev said...

बेहद उम्दा प्रस्तुति. पूरी एकाग्रता के साथ जुड़ा रहा.